Hindi Cricket News: सुरेश रैना ने कहा कि वर्ल्ड कप केे समय धोनी और सचिन नेे नियमित टीम मीटिंग की

suresh raina


सुरेश रैना और रोहित शर्मा ने की इंस्टाग्राम पर बातचीत

चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) के उपकप्तान सुरेश रैना और मौजूदा भारतीय उपकप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने हाल में एक इंस्टाग्राम लाइव में एक दूसरे से बातचीत की। इस दौरान रैना ने 2011 में विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम के लिए एमएस धोनी(MS Dhoni) और सचिन तेंदुलकर के योगदान के बारे में बात की। उन्होंने इन दोनों दिग्गजों के मैदान के बाहर किये गए प्रयासों के बारे में बात की।

सचिन और धोनी ने आयोजित की कई बैठकें

 रैना ने कहा कि टूर्नामेंट के दौरान सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) और महेंद्र सिंह धोनी द्वारा मैदान के बाहर (backstage) कई मीटिंग आयोजित की गईं। बाएं हाथ के बल्लेबाज ने कहा कि यह सभी बैठकें सफल रहीं और भारत में 28 साल के इंतजार के बाद विश्व कप (World Cup 2011) जीतने में सफल रहा।

News : एबी डिविलियर्स ने बताया रोजर फेडरर जैसे हैं कोहली, रन चेस में सचिन से बेहतर

 सुरेश रैना (Suresh Raina) ने बताया कि  2011 विश्व कप में दक्षिण अफ्रीका से मिली हार के बाद कैसे एक मीटिंग के जरिये टीम को पटरी पर लौटने में मदद मिली। उन्होंने बताया कि धोनी और तेंदुलकर टीम की नियमित मीटिंग बुलाते थे, जिसमें टीम के सभी सदस्य शामिल होते थे।

टीम के प्रदर्शन में आया सुधार : रैना

गौरतलब है कि भारत विश्व कप के ग्रुप चरण में नागपुर में  दक्षिण अफ्रीका (South Africa) से हार गया था। सुरेश रैना ने इसे टीम की आंखे खोल देने वाली हार बताया। उनके अनुसार, टीम की बैठकें सही समय पर होती थीं। इसने भारतीय टीम को उसकी गलतियों को समझने में मदद की, और टूर्नामेंट के नॉकआउट चरण के पहले प्रदर्शन में सुधार आया।

 सुरेश रैना ने कहा
  हमने बहुत सारी मीटिंग की। माही भाई और सचिन पाजी ने उन बैठकों को आयोजित कराया। उन्होंने हमें एकजुट और सकारात्मक बने रहने के लिए कहा।  दोनों खिलाड़ियों की उन बैठकों में बड़ी भूमिका थी। उनके अनुसार, सभी खिलाड़ी महत्वपूर्ण थे।यह बैठक बहुत महत्वपूर्ण थी और सही समय पर आयोजित की गई थी। कभी-कभी अगर आप सही समय पर चीजों को संबोधित करते हैं, तो यह टीम के लिए अच्छा होता है

मैदान के बाहर सचिन की भूमिका महत्वपूर्ण

सुरेश रैना की माने तो मैदान के साथ-साथ सचिन तेंदुलकर की मैदान से बाहर एक (Behind the scenes) और बड़ी भूमिका थी। वह टीम को एकजुट बनाने और पॉजिटिव बनाये रखने के लिए लगातार काम करते रहते थे। उन्होंने और कप्तान एमएस धोनी ने लगातार मीटिंग बुलाकर टीम की कमियों को बताया। इससे टीम (Indian team) ने सुधार किया और चैंपियन बनी।

Post a Comment

Previous Post Next Post